Languages:
Breaking News

दुनिया के इकलौते शाकाहारी मगरमच्छ की मौत: लोग अपने हाथों से चढ़ाते हैं चावल और गुड़ का प्रसाद, 70 साल से केरल के मंदिर में रहे

worlds-only-vegetarian-crocodile-dies-people-offer-prasad-of-rice-and-jaggery-with-their-own-hands-lived-in-kerala-temple-for-70-years

दुनिया के इकलौते शाकाहारी मगरमच्छ की केरल में मौत 70 साल से यह मगरमच्छ कासरगोड जिले के श्रीअनंतपद्मनाभस्वामी मंदिर के तालाब में रह रहा था। वह अनंतपुरा झील में रहता था और मंदिर की देखभाल करता था। पुजारियों ने हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार मगरमाछा की अंतिम तीर्थयात्रा की और उन्हें मंदिर परिसर के पास दफनाया गया।


मगरमच्छ को प्यार से बाबिया कहा जाता था। वह मंदिर में चढ़ाए गए चावल और लौकी का प्रसाद खाते थे। बबिया शनिवार से लापता थी। रविवार रात करीब साढ़े 11 बजे उसका शव झील में तैरता मिला। तब मंदिर प्रशासन ने पशुपालन विभाग और पुलिस को सूचना दी।

मगरमच्छ को देखने के लिए उमड़े लोग

मगरमच्छ के अंतिम दर्शन के लिए नेता और लोग जुटे। जब संख्या बढ़ने लगी तो शवों को झील से निकाल कर खुले स्थान पर रख दिया गया।

केंद्रीय राज्य मंत्री अंतिम दर्शन देने पहुंचे

केंद्रीय राज्य मंत्री शोभा करंदलाजे भी बाबिया से मिलने पहुंचीं। उन्होंने श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि मंदिर में मगरमच्छ 70 साल तक रहा। भगवान उसे आशीर्वाद दें। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष के. सुरेंद्र ने कहा कि लाखों श्रद्धालुओं ने मगरमच्छ के दर्शन किए. बाबिया को भावभीनी श्रद्धांजलि


मगरमच्छों को चावल और गुड़ बहुत पसंद थे

पुजारियों के अनुसार, मगरमच्छ शाकाहारी था और झील में मछली या अन्य जीवों को नहीं खाता था। बबिया एक गुफा में रहता था। दिन में दो बार वह गुफा से मंदिर के दर्शन करने के लिए निकलते थे और कुछ देर घूमने के बाद अंदर चले जाते थे।

मगर मंदिर में चढ़ाए जाने वाले तनख्वाह को ही खाते थे। उसे चावल और गुड़ बहुत पसंद था। कुछ लोग बाबा के दर्शन के लिए भगवान के दर्शन के अलावा मंदिर में आते थे और अपने हाथों से चावल फैलाते थे। लोगों का दावा है कि मगरमच्छ ने आज तक कभी किसी पर हमला नहीं किया और न ही किसी को नुकसान पहुंचाया.

मगरमच्छ का रहस्यमय इतिहास

ऐसा माना जाता है कि एक महात्मा इस मंदिर में वर्षों पहले तपस्या कर रहे थे। तब भगवान कृष्ण ने एक बच्चे का रूप धारण किया और महात्मा को परेशान करना शुरू कर दिया। इससे क्रोधित होकर महात्मा ने कृष्ण को सरोवर में धकेल दिया। जब उसे अपनी गलती का एहसास हुआ, तो उसने भगवान की तलाश शुरू कर दी, लेकिन पानी में कोई नहीं मिला।


इस घटना के बाद पास में ही एक गुफा दिखाई दी। लोगों का मानना ​​है कि इस गुफा से भगवान गायब हो गए थे। कुछ दिनों बाद यहाँ से मगरमच्छों का आना-जाना शुरू हो गया

मंदिर के आसपास रहने वाले बुजुर्ग लोगों का कहना है कि यह तालाब में रहने वाला तीसरा मगरमच्छ था, लेकिन वहां एक ही मगरमच्छ दिखा। उसकी वृद्धावस्था और मृत्यु के बाद, एक नया मगरमच्छ अचानक प्रकट होता।

Big News National Original

हिमाचल में बारिश ने पिछले 75 साल में सबसे भीषण तबाही मचाई है

8000 करोड़ रुपए का नुकसान: 189 मौतें: 650 सड़कें बंद: सैकड़ों घर ढह गए
शिमला, दिनांक 31
हिमाचल प्रदेश में पिछले 75 वर्षों में बारिश के कारण नहीं पड़ा सूखा पड़ा है और राज्य को 8 हजार करोड़ रुपये की संपत्ति का नुकसान हुआ है और 189 से अधिक लोग मारे गए …

Read More
Big News Business Daily Bulletin Entertainment International Life Style National Science & Technology Trending News

थ्रेड्स: टीवी ने ओबामा को लेकर मेटा को कोर्ट में घसीटने की दी धमकी, कहा- घोटाला ठीक है, धोखा नहीं


ऐसे समय में व्हाट्सएप्प ऐप आया है, जब ट्विटर पर ऐप द्वारा नए प्रतिबंध की घोषणा की गई है। असल में, ट्विटर ने नए प्रतिबंध के तहत ट्वीटडेक का उपयोग करने के लिए वेरीफाई करना आवश्यक कर दिया है।

मेटा का नया टेक्स्ट-आधारित एप थ्रेड्स…

Read More
Big News Daily Bulletin National Sports

एमएस धोनी बर्थडे: जडेजा से हार्दिक पंड्या तक, स्टार क्रिकेटरों ने धोनी को इस तरह दी जन्मदिन की शुभकामनाएं,

बर्थडे एमएस धोनी: धोनी के जन्मदिन पर भी जडेजा ने एक इमोशनल पोस्ट शेयर किया है. सिर्फ जड़ेजा ही नहीं हार्दिक पंड्या और दुनिया भर के तमाम क्रिकेटर और फैंस अपने चहेते धोनी के लिए पोस्ट कर रहे हैं.

दुनिया के सबसे सफल कप्तानों में से एक महेंद्र सिं…

Read More